Thursday, 8 November 2012

Journey Of Self Discovery - Discover Your Self


      Welcome To The Course Of    
      
                                           Journey Of Self Discovery 
आत्म बोध की यात्रा

Life and Death












The Topics That We Discuss In This Course Are As Follows :


A . Search For Happiness
खुशी के लिए खोज

Please Click Below To Download Lecture


B.  Does God Exist ?
क्या भगवान का अस्तित्व है ?


Please Click Below To Download Lecture


C. Supreme Personality Of Godhead
भगवान कौन है ?

Please Click Below To Download Lecture


D. Who Am I ?
मैं कौन हूँ ?

Please Click Below To Download Lecture


E. Why Bad Things Happens With Good People ?
अच्छे लोगों के साथ बुरा क्यों ?

Please Click Below To Download Lecture


F. What Is Yoga ?
योग क्या है ?


Please Click Below To Download Lecture


G. Practical Applications
                    व्यवहारिक प्रयोग                    

Please Click Below To Download Lecture


Kindly Note : 

All The Lectures Are In Hindi Language .



Always Chant And Be Happy

" Hare Krishna Hare Krishna , Krishna Krishna Hare Hare
   Hare Ram Hare Ram , Ram Ram Hare Hare " 


कृपया जाप करें ,

कलियुग पार करने के लिए केवल एक ही रास्ता ,

"हरे कृष्ण हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे
   हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे "
 


जीवन का एकमात्र लक्ष्य 
  भगवान को प्राप्त करना है !!

अर्जुन उवाच

"  परं ब्रह्म परं धाम पवित्रं परमं भवान्‌ ।
पुरुषं शाश्वतं दिव्यमादिदेवमजं विभुम्‌ ॥
आहुस्त्वामृषयः सर्वे देवर्षिर्नारदस्तथा ।
असितो देवलो व्यासः स्वयं चैव ब्रवीषि मे ॥   "


श्रीभगवानुवाच
यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत ।
अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम्‌ ॥  

परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम्‌ ।
धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ॥  

जन्म कर्म च मे दिव्यमेवं यो वेत्ति तत्वतः ।
त्यक्तवा देहं पुनर्जन्म नैति मामेति सोऽर्जुन ॥ 

ममैवांशो जीवलोके जीवभूतः सनातनः ।
मनः षष्ठानीन्द्रियाणि प्रकृतिस्थानि कर्षति ॥ 

मत्तः परतरं नान्यत्किञ्चिदस्ति धनञ्जय ।
मयि सर्वमिदं प्रोतं सूत्रे मणिगणा इव ॥ 


श्रीमद्भगवद् गीता  !!

देवकी पुत्र कृष्ण ही भगवान है !!


Advertise Your Business







राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद

"हरे कृष्ण हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे
   हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे "



राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद

"हरे कृष्ण हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे
   हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे "



राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद

"हरे कृष्ण हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे
   हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे "



राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद

"हरे कृष्ण हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे
   हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे "



राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद राधा गोविंद

"हरे कृष्ण हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे
   हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे "



राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा 
राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा 
राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा 
राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा 
राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा 
राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा 
राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा 
राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा 
राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा राधा


@ This blog is independent , it does not have any relationship with any other website or Institution .